“अग्रसर हिन्दी साहित्य” सम्मान से नवाजे गये कहानीकार ‘सावन’

न्यूज अड्डा डेस्क

Reported By: न्यूज अड्डा डेस्क
Published on: Jun 12, 2020 | 2:45 PM
842 लोगों ने इस खबर को पढ़ा.

‘अग्रसर हिंदी साहित्य सम्मान’ से नवाजे गए कहानीकार ‘सावन’

“कोरोना और करुणा नामक” कहानी के लिए सम्मानित हुए”सावन”

रामकोला/ कुशीनगर

पिट्सबर्ग अमेरिका की बहुप्रतिष्ठित पत्रिका में कहानीकार सुनील चौरसिया ‘सावन’ की बहुचर्चित कहानी ‘कोरोना और करुणा’ प्रकाशित हुई है। देश के विभिन्न प्रदेशों से प्रकाशित स्वदेशी समाचार-पत्रों एवं पत्रिकाओं में भी समसामयिक समस्या कोरोना विषाणु पर आधारित यह मर्मस्पर्शी कहानी प्रकाशित हो चुकी है।

‘कोरोना और करुणा’ नामक कहानी के लिए कहानीकार ‘सावन’ को राजस्थान के जयपुर (कोटपूतली) ने ‘अग्रसर हिंदी साहित्य सम्मान’ से नवाजा है। इस कहानी में उत्तर प्रदेश के अमवा बाजार गांव का बहुत ही मनोरम चित्रण है। कोरोना काल में लागू जनता कर्फ्यू के बाद तालाबंदी (लाकडाउन) के प्रथम चरण का वर्णन है। गरीबों के सामने कोरोना के साथ-साथ भुखमरी की विकराल समस्या खड़ी है। भूख से तड़पते हुए गरीब परिवार को मालकिन अर्धरात्रि में खाना खिलाकर उन्हें मरने से बचाती हैं। वैश्विक महामारी कोरोना की हार होती है और मानवीय मूल्य करुणा की जीत। सकारात्मक संदेश से ओतप्रोत आदर्शोन्मुख यथार्थवादी कहानी ‘कोरोना और करुणा’ पठनीय है।

5 अगस्त 1993 को ग्राम अमवा बाजार पोस्ट- रामकोला जिला-कुशीनगर उत्तर प्रदेश में जन्मे कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ को अनवरत साहित्य साधना हेतु ‘अग्रसर हिंदी साहित्य सम्मान’ के साथ-साथ ‘मधुशाला काव्य गौरव सम्मान’ एवं ‘हिन्ददेश साहित्य सम्मान’ भी मिल चुके हैं।कवि सावन केन्द्रीय विद्यालय टेंगा वैली अरुणाचल प्रदेश में स्नातकोत्तर शिक्षक (हिन्दी) एवं केयर टेकर आफिसर जैसे पदों पर सेवा प्रदान कर रहे हैं।

Topics: अड्डा ब्रेकिंग हाटा

...

© All Rights Reserved by News Addaa 2020