पुलिस का मुखबीर था चोर
  • पुलिस का मुखबीर था चोर
  • दारोगा को झांसा दे दफ्तर के सामने से उड़ाई बोलेरो

उत्‍तर प्रदेश के देवरिया में एसओजी की बोलेरो चोरी की घटना का खुलासा करते हुए पुलिस ने बदमाशों को मंगलवार को जेल भेज दिया। दबोचे गए वाहन चोरों में पुलिस का एक मुखबिर भी शामिल है। वह अक्सर एसओजी कार्यालय में भी आता-जाता था। उसने ही साथियों संग मिल कर बोलेरो उड़ाई थी। पत्रकारवार्ता में एसपी डॉ. श्रीपति मिश्र ने घटना का खुलासा किया।

28 मार्च की रात में देवरिया एसओजी टीम की सरकारी बोलेरो चोरी हो गई थी। एसओजी प्रभारी घनश्याम सिंह की तहरीर पर सदर कोतवाली पुलिस ने अज्ञात चोरों के खिलाफ केस दर्ज किया था। कुशीनगर की पटहेरवा पुलिस और एसओजी की टीम ने 31 मार्च कर रात बोलेरो को बरामद कर लिया। इसके बाद से जिले की पुलिस और एसओजी वाहन लिफ्टरों की गिरफ्तारी के लिए लगी हुई थी। एसपी ने बताया कि सोमवार की देर शाम को मुखबिर की सूचना पर कसया ओवरब्रीज के पास से एक स्कार्पियो सवार चार संदिग्धों को पुलिस ने दबोच कर पूछताछ की तो बोलेरो चोरी की घटना का खुलासा हुआ।

दबोचे गए बदमाशों में शम्भू पाण्डेय पुत्र स्व. फौजदार पाण्डेय निवासी लोहटी थाना कटया जिला गोपालगंज (बिहार), विपिन कुमार तिवारी पुत्र शिवपूजन तिवारी निवासी कुरमौटा मंझरिया थाना कसया जिला कुशीनगर, राकेश कुशवाहा पुत्र हरिवंश कुशवाहा निवासी अनिरूधवा थाना कसया जिला कुशीनगर और अंजनी सिंह उर्फ टिंकू पुत्र श्रीप्रकाश सिंह निवासी खेमादेई थाना लार का रहने वाला है। पुलिस के अनुसार दबोचे गए बदमाशों में से विपिन कुमार तिवारी अधिवक्ता है। उसके पास से एक लाइसेंसी पिस्टल बरामद हुआ। वहीं शंभू पाण्डेय के पास से तमंचा बरामद हुआ है।

अंजनी के पास से 1.200 किलो ग्राम चरस बरामद मिला। इसमें अंजनी ने बताया कि वह एसओजी का मुखबिर है, उसने कई बार अवैध शराब के बारे में सूचना दी थी। वह नशे का आदी है। नशे की हालत में ही साथियों की मदद से एसओजी की गाड़ी को चुरा लिया। बाद में पता चला कि चोरी गई बोलेरो पुलिस की है। गाड़ी को बेचने ले जाते समय कुशीनगर पुलिस को देख गाड़ी छोड़ कर फरार हो गए।

अंजनी पहले भी जा चुका जेल

लार थाना क्षेत्र के खेमादेई गांव के रहने वाले अंजनी सिंह उर्फ टिंकू पुत्र श्रीप्रकाश सिंह के विरुद्ध बिहार के गोपालगंज के मीरगंज थाने में मुकदमा अवराध संख्या 07/2018 धारा-414,341 आईपीसी के तहत दर्ज है। वहीं जिले के लार थाने में मुकदमा अपराध संख्या 379/2014 धारा 302,201 आईपीसी और देवरिया सदर कोतवाली में मुकदमा अपराध संख्या 627/2019 धारा-25 आर्म्स एक्ट के तहत कार्रवाई हुई है। वह सदर कोतवाली और लार में हुए मामले में जेल जा चुका है। शंभू पाण्डेय पर यूपी व बिहार के थानों में कुल 6 मुकदमे दर्ज हैं।

बोलेरो चुराने के बाद जलकल रोड से हुए थे फरार

कोतवाली में एसओजी कार्यालय के सामने से बोलेरो चुराने के बाद बदमाश जलकल रोड होते हुए फरार हुए थे। इस दौरान एक दुकान में ठोकर मार दिया था। रास्ते में जाते समय तीन स्थानों पर ठोकर मारा था। बदमाश गाड़ी को न्यू कालोनी होते हुए चकियवा ढाला, भीखमपुर रोड, महुआनी, गोरयाघाट होते हुए कंचनपुर पहुंचे। इसके बाद वह कसया और फिर गोपालगंज चले गए।

सर्विलांस के सहारे अभियुक्तों तक पहुंची पुलिस

एसओजी की बोलेरो चोरी के बाद कोई सुराग नहीं मिल रहा था। इसे देखते हुए पुलिस की एसओजी टीम ने घटना के समय कोतवाली के पास कार्य कर रहे मोबाइलों को खंगाला। कोतवाली में चल रहे मोबाइल अलग-अलग स्थानों पर लोकेट किया। इसके बाद टीम सभी पर नजर रखने लगी। इसके बाद बदमाश आपस में बात भी कर रहे थे। मोबाइल के सहारे ही पुलिस बदमाशों तक पहुंची।