पालघर। जिले की सीमावर्ती थाना कासा की पुलिस ने ऐसे गिरोह का भ़ंडाफोड़ किया है जो भोली भाली जनता के नोटों को दुगुना करने के बहाने ठगी किया करते थें।
पुलिस अधिक्षक ने धोखेबाजों से सावधान रहने की किया अपील.!
    पालघर के पुलिस अधिक्षक दत्तात्रेय शिंदे ने मंगलवार 3नवंबर को पुलिस मुख्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान मामलें का रहस्योद्घाटन करते हुए ठगी करने वाले गिरोह के बारे में जानकारी प्रस्तुत करते आम जनता से ऐसे ठगों के बहकावे में न आने की सलाह देते धोखाधड़ी करनेवाले की सूचना नजदीकी पुलिस स्टेशनों में फौरन देने की आग्रह किया है।
        नोट दुगना करने की झांसा देने वालों के बारे में जानकारी देते पुलिस अधिक्षक ने बताया कि कासा पुलिस स्टेशन में फरियादी पड़ोसी राज्य गुजरात के वलसाड़ जिले के वापी निवासी निरप विश्वकर्मा द्वारा दर्ज कराई गयी मुकदमे में कहा गया है पिछले माह अक्टूबर की पहली तारीख को नामजद चार आरोपियों ने कासा के जंगलों में बुलाकर नोटों को दुगना करने की तरकीब दिखाई तथा उसे जितना दोगे उसका डबल मिलेगा कहते हुए फोन पर 15अक्टूबर को पैसे लेकर कासा के जंगलों में बुलाया।नोटों के दुगुना के लालच में फरियादी ने 240000/-रुपये लेकर जंगल में आ धमका जहां आँख पर पट्टी बांधकर मंत्रों से अभिभूत करने के बहाने चारो आरोपी पैसे लेकर रफूचक्कर हो गये।
    घटना की बावत कासा थाने में दर्ज मुकदमे को संज्ञान में आते ही प्रभारी सहा.पुलिस निरीक्षक जितेंद्र ठाकुर ने ठगों के मुक्कमल छिपें होने की जगह पर निशानदेही के आधार पर छापेमारी करते हुए दो ठगों को धर दबोचा है। शेष दोनों आरोपियों को जल्दी हवालात पहुचाने की कवायद तेज हो गयी है।