Kasaya: Future India Developers Pvt. Ltd. Organized Kavi Sammelan and Award Ceremony.
  • “किसी के चाहने पर भी बुराई हो नहीं सकती……खुदाई का दावा करने से खुदाई हो नहीं सकती ”
  • हिंदुस्तान अनेकता मे एकता का सन्देश देता है -डॉ. सौरभ पाण्डेय
  • कलमकार के जेहन से निकली भावना जीवन को बदल देती है- डॉ.सत्या पाण्डेय, पूर्व मेयर गोरखपुर
  • युवा अपनी क्षमता का सही उयोग करें-नुरूलएन वारसी।

कसया/कुशीनगर(न्यूज अड्डा)। कसया नगर के एक होटल में फ्यूचर इंडिया डेवलपर प्रा. लिमिटेड द्वारा सद्भावना व भाईचारा की स्थापना को लेकर कवि सम्मेलन व सम्मान समारोह आयोजित हुआ ।जिसमें शायरों व कवियों ने अपनी शायरी व कविता से लोगों को देर शाम तक झुमाते रहे ।

कार्यक्रम की शुरुआत युवा शायर मिर्जा गालिब कुशीनगरी की शायरी से हुई।मिर्जा गालिब कुशीनगरी ने शायरी पढ़ी कि “किसी के चाहने पर भी बुराई हो नहीं सकती,खुदाई दावा करने से खुदाई हो नहीं सकती”… ।को पढ़ इन्सानियत का पाठ पढ़ाया।शायरा सबरीन निजाम ने -“मैं जब भी गीत गाती हूं तुम्हारी याद आती है”… पढ़ कर युवाओं का ध्यान अपनी ओर खींच लिया।उसके बाद युवा शायर अब्दुल वकार ने”सर पर टोपी माथे पर चंदन हो दिल में हिन्दुस्तान जरूरी है”.. साहब पढ़ कर सबको देश भक्ति में सराबोर कर दिया।वही युवा कवियत्री भावना द्विवेदी ने-“तुम्हारे प्यार में पड़कर जहर मैं खा नहीं सकती ,लूटा के घर की इज्जत को मोहब्बत पा नहीं सकती “… पढ़कर घर की दहलीज की कीमत बताई।शुम्बुल हाशमी ने “ये तो जज्बात में है आग लगाने वाले ,रहनुमा कैसे कहें दुनिया वाले”….. पढ़ कर खूब तंज कसा।आर.के.भट्ट बावरा ने पढ़ा “जो नशा है मुझपे खुमार है ,तेरा प्यार है बस तेरा प्यार है “…पढ़ खूब बाहवाही लूटी।संचालन की भूमिका निभा रहे मिन्नत गोरखुरी ने कहा “सजा के अपने घर में गीता और कुरान रखते हैं, जहाँ पर राम रखते हैं वही पर रहमान रखते हैं”…. पढ़कर कट्टरता को आइना दिखाया।हाजी जलालुद्दीन कादरी,मोहम्मद आकिब,अर्शी बस्तवी ने भी अपनी रचनाएं प्रस्तुत किया।मुख्य अतिथि धारा धाम प्रमुख डा. सौरभ पाण्डेय ने कहा कि हिन्दुस्तान अनेकता में एकता है का सन्देश देता है ऐसे आयोजन से एकता को मजबूती मिलती है l कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए पूर्व मेयर गोरखपुर डॉ सत्या पाण्डेय ने कहा कि बुद्ध,साधु संतों की भूमि पर महापुरुषों ने अपना पांव रखा था।माँ भारती का आँचल में हर धर्म, जाति वर्ग के लोग रहते हैं। यह कवि सम्मेलन गंगा -यमुनी तहजीब की परंपरा को आगे बढ़ा रही है। कवि, शायर, कलमकार के जेहन से निकली भावना जीवन को बदल देती है।धर्मों के ग्रंथों से भी यही उपदेश मिलता है और सच्चाई सीख कलमकार ही देता है।

इसी क्रम में विशिष्ट अतिथि डा. संतोष कुमार वर्मा, डा. विनय श्रीवास्तव, समाजसेवी मेराज अहमद ने भी अपने विचार रखे। संयोजक नूरलएन वारसी ने सभी आगन्तुक अतिथियों का स्वागत व आभार प्रकट करते हुए कहा कि हमारी संस्था युवाओं को रोजगार देने के लिए आई है। युवाओं में अपार क्षमता हैं। युवा अपनी क्षमता का सही उपयोग करें। इसके पूर्व आयोजकों ने फ्यूचर इंडिया की ओर से अच्छा कार्य करने वाले वर्कर्स को प्रोत्साहन स्वरूप चेक दिए गए।

पूर्व मेयर श्रीमती पाण्डेय व अतिथियों का माल्यार्पण , अंगवस्त्र व स्मृति चिन्ह देकर स्वागत किया।इस अवसर पर मुख्य रूप से मोहम्मद फुरकान,अनायतुल्लाह वारसी,नुरुल हुदा, वलीउल्लाह खान,महफूज चुन्ना, उज्जैर रिन्कू ,आर्यन परवेज,इम्तियाज हुसैन, मुस्ताक वारसी,आमिर खान,अब्बास अली,समसुद्दीन,परवेज आलम,उमर अंसारी,मोइनुद्दीन, गुफरान बक्शी,जावेद आलम दुर्गेश जायसवाल, जहाँगीर सिद्दीकी,सैफ लारी,तौहीद अली आदि मौजूद रहें।

Mohammad Aslam

तहसील प्रभारी कसया, कुशीनगर उत्तर प्रदेश