बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने सूबे की बेटियों के लिए बड़ा एलान किया है. राज्य की लड़कियों को मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों में 33 फीसदी आरक्षण (33% Seat Reserved) मिलेगा. बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई बैठक के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह घोषणा की है.

इस फैसले से बिहार की छात्राओं को काफी राहत पहुंचने वाली है. बता दें कि इंजीनियरिंग यूनिवर्सिटी (Engineering University in Bihar) और मेडिकल यूनिवर्सिटी (Medical University in Bihar) की स्थापना को लेकर प्रस्तावित बिल को इस मीटिंग में पेश किया गया. बिहार के साइंस एंड टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट के सचिव लोकेश कुमार सिंह ने बिहार इंजीनियरिंग यूनिवर्सिटी एक्ट 2030 और पावर एंड फंक्शन ऑफ यूनिवर्सिटी जूरिडिक्शन एंड अदर प्रोविजन के संबंध में जानकारी दी.

बैठक में लिया गया फैसला

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक का आयोजन किया गया था. इस मीटिंग में हेल्थ डिपार्टमेंट के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने बिहार यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज और पावर एंड फंक्शन ऑफ यूनिवर्सिटी की जानकारी दी. इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि इंजीनियरिंग और मेडिकल यूनिवर्सिटी के स्थापना के बाद इंजीनियरिंग और मेडिकल के मैनेजमेंट जो सुधरेंगे हैं साथ ही अच्छी पढ़ाई भी होगी.

33% का आरक्षण

इस मीटिंग की खास बात यह रही कि इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के लिए छात्राओं को एक तिहाई सीटों का आरक्षण (Reservation for Girls) दिया जाएगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि उच्च और तकनीकी शिक्षा के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए फैसला लिया गया है. बिहार के सभी जिलों में इंजीनियरिंग कॉलेज खोले जा रहे हैं साथ ही कई मेडिकल कॉलेज भी खोले जाएंगे.